ज्ञान ज्योति है

ज्ञान ज्योति है

ज्ञान धर्म है

ज्ञान जीवन है

ज्ञान प्रेम है

ज्ञान सम्मान है

ज्ञान नहीं तो कुछ भी नहीं……

sar-555

Posted in Uncategorized | Leave a comment

तू ही बता ये जिंदिगी आखिर मै कहा हु

ना ख़ाली हु ना अतिव्यस्त हु
दर्द है पर मै बताता नहीं जख्म है पर वह दिखता नहीं.
ना थका हु ना हारा हु
तू ही बता ये जिंदिगी आखिर मै कहा हु.!
_____@Hsshr555

Posted in Uncategorized | Leave a comment

आशियाना

उस तूफान को कह दो जड़ा संभल के आए

तिनके से बना मेरा आशियाना कही उजड़ ना जाये….

sar-55

Image | Posted on by | Leave a comment

आज नहीं ये काम चलो कल कर लेंगे

time-management1

आज नहीं ये काम चलो कल कर लेंगे

आज नहीं ये काम चलो कल कर लेंगे

उसके चहरे से आँखों को कल भर लेंगे

उस आहात पर कल मर लेंगे

कल उसे ऐसा कह देंगे

कल उसे ऐसा सुन लेंगे

यह काम कल निपटा लेंगे

जो गीत नहीं हम होठों पर आ पाया आज

वो गीत चलो कल गा लेंगे

कल ज़ख्म यह सब भर जायेंगे

यह दुबला अश्क़ो में

कल जब खुशिया घर आएंगे

हम जे भर कर मुस्का लेंगे

जो आज गवाया है हमने

कल उससे बेहतर पा लेंगे

जो कुछ होता है आज उसे हो जाने दो

कल सब अच्छा हो जायेगा

हर ज़ख्म हर एक दुःख दर्द

कलम सो जायेगा खो जायेगा

पर जन मेरी कल आएगा……

*गुलाम अली का एक ग़ज़ल*

Posted in Uncategorized | Leave a comment

आप से तुम तक करीब तो आए

11017782_421994147988559_1704646100637580725_n

आप से तुम तक करीब तो आए
पर आज तुम और आप के बिच बहुत फासला हो गया…
आप एक परिचित की तरह रिश्ते निभा रहा है
और तुम (अपनत्व) अपने अस्तित्व की तलाश में सामने खड़ा सब कुछ देख रहा है…

Posted in Uncategorized | Leave a comment

“आत्मविश्वास”

self-confidence.
जीवन के कई उतार चढ़ाव के देखा
कभी अच्छे को तो कभी-कभी बुरे को देखा
किसी ने अपमान किया
तो यह शहर में उससे कही ज्यादा मुझे सम्मान और प्यार दिया
और मुझे शक्ति दी मै भी उन बच्चें के लिए कुछ करू
आप सब की सेवा करू….
एक उदेश्य एक लक्ष्य को ले कर
निकल पड़ा बस आप शक्ति दे
और साथ में मुझे आशीर्वाद भी…..

Posted in Uncategorized | Leave a comment

कुछ भी तो नही

जीवन है पर जिंदिगी नहीं

जिंदिगी है पर उमंग नहीं

उमंग है पर उल्लास नहीं

आसूं है पर ख़ुशी कही खो गई

ख़ुशी आई तो हँसी ना जाने कहा चली गई

वजूद है तो वह लम्हा कही खो गई

मिट्टी के चूल्हें पे गोइठा की आच में पका मक्के की रोटी का वह स्वाद

गाँव के ढलते सूरज का वह शाम

जीवन चली जा रही है हर छोटी-बड़ी जरुरत को पूरा करते

फिर भी लगता है कुछ नहीं है…

कुछ भी तो नही…

 

 

Posted in Uncategorized | Leave a comment